भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बे-सबब हम से जुदाई न करो / फ़ाएज़ देहलवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बे-सबब हम से जुदाई न करो
मुझ से आशिक़ से बुराई न करो

ख़ाकसाराँ को न करिए पामाल
जग में फ़िरऔन सी ख़ुदाई न करो

बे-गुनाहाँ कूँ न कर डालो क़त्ल
आह कूँ तीर-ए-हवाई न करो

एक दिल तुम से नहीं है राज़ी
जग में हर इक सूँ बुराई न करो

मह्व है ‘फ़ाएज’-ए-शैदा तुम पर
उस से हर लहज़ा बखाई न करो