भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बै / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बै आभै में उड़ै
मैली आंख सूं करै
ऊजळी धरती रो मुआयनो

धरती माथै आवै
बांदरां नै बांटै बै
धारदार उस्तरा

बांदरां एक दूजै रो
नाक-कान-गळो
बाढण री तक सोधै
जठै तांई पूगै हाथ
घाव करै

धरती हुवै
मिनखां रै रगत सूं लाल
पण बै मुळकै, मजा करै
दाखां रो दारू उडावै
असली घी में रध्योड़ा मुर्गा खावै
काची-कंवळी कोरी
सांसां रै समंदर में गोता लगावै

बांरा बादरां फिर-फिर उत्पात मचावै
बै हरख-उच्छब मनावै !