भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

बोलऽ बोलऽ कागा तूहूँ साम के खवरिया, कइसन बाड़ी ना / मास्टर अजीज

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बोलऽ बोलऽ कागा तूहूँ साम के खवरिया, कइसन बाड़ी ना ?
मोरा मन के मोहनवाँ, कइसन बाड़े ना ?

सखिया-सलेहर रोये, रोये धेनु गइया, कइसन बाड़ी ना ?
साँवर साम के सुरतिया, कइसन बाड़ी ना ?

खेत-खरिहान रोये, रोये मधुवनवाँ, कइसन बाड़ी ना ?
उनकर बाँस के बँसुरिया, कइसन बाड़ी ना ?

सिकहर टांगल रोये माखन के मटुकिया, कइसन बाड़ी ना ?
नन्हकी बाँह के अँगुरिया, कइसन बाड़ी ना ?

जहिया देब कागा साम के खबरिया, बरदानवा देबि ना ?
जुग-जुग जिओ तोहर जोड़िया, वरदनबा देबि ना ?

‘मास्टर अजीज’ जिया कुहु-कुहु कुहुके, कोइलिया कुहुके ना ?
जइसे भोर-भिनसहरा, ई कोइलिया कुहुके ना ?