भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बोलिये सुरीली बोलियाँ / गुलज़ार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बोलिये सुरीली बोलियाँ
खट्टी मीठी आँखों की रसीली बोलियाँ

रात में घोले चाँद की मिश्री
दिन के ग़म नमकीन लगते हैं
नमकीन आँखों की नशिली बोलियाँ

गूंज रहे हैं डूबते साये
शाम की खुशबू हाथ ना आये
गूंजती आँखों की नशिली बोलियाँ