भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बोलो तो / निकोलस गियेन / गिरधर राठी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: निकोलस गियेन  » बोलो तो / निकोलस गियेन

तुम जो क्यूबा को छोड़ गए,
बोलो तो
कहाँ तुम जाओगे
आसमान के नीचे हरी-भरी हरियाली,
नील पर नील,
ताड़ पर ताड़ के दरख़्त ?
बोलो तो !

तुम, जो भुला बैठे अपनी ज़ुबान
बोलो तो,
और चुभलाते हो बेग़ानी बोली में
’ग्यूइल’ और ’यू’
कैसे जी सकते हो मौन में ?
बोलो तो !

तुम, जो छोड़ गए पीछे ज़मीन,
बोलो तो,
जहाँ सो रहे हैं सलीब के नीचे
तुम्हारे पिता,
कहाँ तुम छोड़ोगे अपना कंकाल ?
बोलो तो !

ओ नामुराद, दो जवाब,
बोलो,
कहाँ तुम पाओगे
आसमान के नीचे हरी-भरी हरियाली,
नील पर नील,
ताड़ पर ताड़ के दरख़्त ?
बोलो तो !

अंग्रेज़ी भाषा से अनुवाद : गिरधर राठी