भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बोस्की के लिए / गुलज़ार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कुछ ख़्वाबों के ख़त इन में , कुछ चाँद के आईने ,

                                    सूरज की शुआएँ हैं
नज़मों के लिफाफ़ों में कुछ मेरे तजुर्बे हैं,

                                  कुछ मेरी दुआएँ हैं

निकलोगे सफ़र पर जब यह साथ में रख लेना,

                                शायद कहीं काम आएँ