भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ब्याजें खो गई हैं / शीन काफ़ निज़ाम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बयाज़ें
जिन में
अनदेखे परिंदों के
पते लिक्खे

बयाज़ें
जिन में
हम ने फूलों की
सरगोशियाँ लिक्खीं
पहाड़ों के रमूज़ और
आबशारों की जुबां लिक्खी

बयाज़ें
जिन के सीने में
समुन्दर और सूरज की अदावत के थे अफ़साने
परिंदे और पेड़ों के
रक़म थे
बाहमी रिश्ते
हमारे इर्तिका की उलझनें
जिस से मुनव्वर थीं

बयाज़ें खो गई हैं
अब लुग़त हम से परीशाँ है