भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ब्लोक के लिए-4 / मरीना स्विताएवा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

खोह चाहिए वन्य-पशु को,
राह चाहिए मुसाफ़िर को,
और मृतक को चाहिए ताबूत
इच्छाएँ हर एक की होती हैं अलग-अलग ।

औरत चाहती है छल-कपट करना,
राजा चाहता है करना राज,
और मैं चाहती हूँ करना
गरिमा से मंडित
तुम्हारे नाम को ।

रचनाकाल : 2 मई 1916

मूल रूसी भाषा से अनुवाद : वरयाम सिंह