भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ब्लोक के लिए-7 / मरीना स्विताएवा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

परेशान न करें मित्रजन उसे
परेशान न करें सेवक ।
स्पष्ट था अंकित उसके मुख-मंडल पर
कि मेरा वह सर्वस्व, प्राणी नहीं था इस लोक का ।

भारी तूफ़ानों ने घेर रखा था उसका घर
दब रहे थे कंधे पंखों के बोझ से ।
झुलसे उत्साह और गाती विराटता में
मुक्त उड़ने दिया उसने अपनी आत्मा को ।

गिर पड़ो, गिर पड़ो, ओ भारी प्रतिमा !
उड़ने के अधिकार का पता चल गया है पंखों को
उत्तर मांगते होंठ जानते हैं
मर जाना भी कोई उत्तर नहीं ।

जी-भर पीता है वह समुद्र और सुबह,
गुर्राता है वह- कोई नहीं ज़रूरत मेरे लिए मरने के बाद
प्रार्थना करने की,
जीने के जो देता रहा आदेश
वही जुटाएगा रोटी खिलाने के लिए ।

रचनाकाल : 15 अगस्त 1921

मूल रूसी भाषा से अनुवाद : वरयाम सिंह