भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ब-नाला हासिल-ए-दिल-बस्तगी फ़राहम कर / ग़ालिब

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ब-नाला हासिल-ए-दिल-बस्तगी फ़राहम कर
मता-ए-ख़ाना-ए-ज़ंजीर जुज़ सदा मालूम

ब-क़द्र-ए-हौसला-ए-इश्क़ जल्वा-रेज़ी है
वगरना ख़ाना-ए-आईना की फ़ज़ा मालूम

'असद' फ़रेफ्ता-ए-इंतिख़ाब-ए-तर्ज़-ए-जफ़ा
वगरना दिलबरी-ए-वादा-ए-वफ़ा मालूम