भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भजन / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

छोटोड़ो टींगर जिद करै
दूध खातर
बडोड़ो अड़ रैयो है-
फीस लियां बिना स्कूल कोनी जावूं
लुगाई चेपै बां रै
चटीड़
म्हारै मांय उठै
रीस रा बतूळा
रेडियो गावै-
रघुपति राघव राजा राम …