भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भरत मण्डल की माँ / जय गोस्वामी / विश्वजीत सेन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नन्दीग्राम में प्रतिरोध की पहली पाँत में जो महिलाएँ खड़ी थीं, उनका आवेग सही नहीं था।--नंदीग्राम के बारे में सुनील गंगोपाध्याय

बूढ़ी बोलीं —
'मेरा एक बेटा तो गया
दूसरे को भी वे ले जाएँ
मेरे इन हाथों को देखो बेटा...`
कह कर उन्होंने उठाए अपने काँपते,
नस निकले हाथ,
और दिखाए...

— इन दो हाथों से
खेत के सारे काम
निपटाए हैं मैंने अब तक,
इन्हीं हाथों से
ज़मीन को छीने जाने से रोकूँगी।`

— मौसी-माई, आपके पास
ईंट भट्ठे में छुपाए गए हथियारों का जख़ीरा
नहीं है,
मौसी-माई, आपके पास
हथियारों से लैस पुलिस नहीं है
मौसी-माई, आपके पास
चप्पल पहने, पुलिसिया वरदी में
हज़ारों कैडर नहीं हैं,
फिर भी इतनी ताक़त
आप लाती कहाँ से हैं?

— यह मुझे पता नहीं
सिर्फ इतना जानती हूँ

कभी कभी देवी दुर्गा
किसान की माँ बन कर
हम लोगों को दर्शन देती हैं...

बाँग्ला से अनुवाद : विश्वजीत सेन