भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

भर आयी आंखें भी नहीं छलकी हैं कई दफा / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भर आयी आंखें भी नहीं छलकी हैं कई दफा।
किसने समझा यहां उन आंसुओं का फलसफ़ा।

दुनिया ने देखी है उनकी छाया सदा हम पे,
किसे होगा यक़ीन, उनके कारण हुआ हादसा।

इस तरफ़ जो भी बिखरे, रंग-बदरंग बिखरे,
दूसरी तरफ अब भी रखा है कोरा एक सफ़ा।

कुछ इस तरह बनकर तैयार हुआ है घर अपना,
छांव यहां तक आती नहीं, धूप रहती है सदा।

आपको यक़ीन हो या न हो, लेकिन सच जानिए,
हाथ ऊपर उठा खुशी से मांगी है आज कज़ा!