भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भाई / मुइसेर येनिया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं दिखा रही हूँ
एक बार अपनी मुस्कान
एक बार अपना आर्तनाद
इस दुनिया को

ओह पुरुष
हम भाई हैं
इस ध्वंस के ।