भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भारती पुकारती / शास्त्री नित्यगोपाल कटारे

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

परम पुनीत पुण्यभूमि भारती
उठो युवाओ! माँ तुम्हें पुकारती।

सत्य दान शीलता की मूर्ति,
अभीष्ट सब पदार्थों की पूर्ति।
चंद्रमा-सी जिसकी धवल कीर्ति
बनी विपन्नता की प्रतिमूर्ति
वो आस भरी दृष्टि से निहारती
उठो युवाओ! माँ तुम्हें पुकारती।

राम-कृष्ण की ये पावन धृति
श्लांघनीय संस्कृत सुसंस्कृति
रत्नपूर्ण इस धरा की संतति
क्यों है अशक्त काँच के प्रति
मातृभक्ति पर कभी न हारती
उठो युवाओ! माँ तुम्हें पुकारती

झाँक लो ज़रा सुखद अतीत को
शौर्य वीर्य धैर्य के प्रतीक को
छोड़ भेदभाव की अनीति को
जगाओ स्वाभिमान की प्रतीति को
जलाओ दिव्य चेतना की आरती
उठो युवाओ! माँ तुम्हें पुकारती