भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भारत की फूट को फजीतौ कहैं नाथ कवि / नाथ कवि

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भारत की फूट को फजीतौ कहैं नाथ कवि,
चाल जिन्ना की कभी कामयाबी लाये ना।
अड़ें आदि वीर त्योंही सूर सावरकर जू,
करत सुश्रूसा सपरूहू कछु पाये ना॥
एक ओर सिक्ख निज वीरता दिखावें नित्य,
दूजी ओर खाक खाकसार मन भाये ना।
झूठी तसवीरों से न बहकेंगे भारतीय,
लाख समझायें किन्तु बातें में आयें ना॥