भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भारत के चारों ओर फैल रहौ हाहाकार / नाथ कवि

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भारत के चारों ओर फैल रहौ हाहाकार।
जाओ निज देश तनातनी बढ़ जायेगी॥
झूठे वायदों से ये न माने कभी नेतागण।
कर दो आजाद सिर्फ बात रह जायेगी॥
‘नाथ’ कहै अब ना सहेंगे जुल्म जालिमों का।
पाकिस्तान योजना भी दफना दी जायेगी॥
होवेगा स्वतंत्र देश बोलो ‘जय-हिन्द सभी।
मिसन मशीन की कसौटी कस जायेगी॥