भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भारत में चारों ओर फैल रहौ हाहाकार / नाथ कवि

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भारत में चारों ओर फैल रहौ हाहाकार।
कहूँ भुखमरी कहूँ भ्रष्टाचार छायौ है॥

सन्तन पै अत्याचार छात्रन पै गोली वार।
हिन्दू धर्म पर हूँ कलंक ये लगायौ है॥

गौ वध कौं जो पै तुरन्त बन्द करौ नांहि।
खूनी क्रांति दो पग पीछे दोष छायौ है॥

शांति मार दुश्मन को सीमा कौ त्यागौ यासौं।
कांग्रेस पते वीरता में बट्टा चल आयौ है॥