भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भालू के बाल / बालकृष्ण गर्ग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गरमी में जब चलती लू,
होता परेशान भालू।
शीतलहर का हो झोंका,
मिले फाइदा बालों का।

गिरे बर्फ, हो भारी शीत,
बालों से रहती है ‘हीट’।
जाड़े में मिलती राहत,
पर गरमी में तो आफत।
       [रचना: 22 जून 1998]