भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

भींतां बिच्चै बीमार है आदमी / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भींतां बिच्चै बीमार है आदमी
घर थकां घर सूं फरार है आदमी

नुंवै गाभां सूं ओप आवै किंयां
मांय सूं तो तार-तार है आदमी

गळो टुंपीजै पण मुळक बतळावै
ईं राज रो ऐलकार है आदमी

बस दो घड़ी गौर सूं देख बांच लो
रोजीना रो अखबार है आदमी

घराळा छोड जग ढूकै आंगणै
देखो कित्तो दिलदार है आदमी