भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भीतर का सच / सुदर्शन वशिष्ठ

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बाहर नहीं आता
भीतर का सच
बहुत कठिन है
सच-सच कहना
जैसे कठिन है
सब कुछ सहना
गुनगुनाते भी रहना
सिसकना और
मुस्कुराते भी रहना
जमा हुआ दिखना
बहते भी रहना
चुप रहना
कहते हुए भी रहना
संग-संग रहना और
दूर-दूर रहना।

मन ही मन
कई कुछ कहना
बाहर से बस
चुपचाप रहना।