भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भूखी / रचना शेखावत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सासरै मांय
एकर रूसी
अर सोयगी भूखी
धापां।

अजै तांई
पाछी नीं रूसी कदैई
सोई धायोड़ी
मन री भूखी
कै कदै रूसै
अर मां जियां
मनावै कोई
दो टूक खुआणै।