भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भूखे बच्चे से ईश्वर का सम्वाद / बालकृष्ण काबरा 'एतेश' / लैंग्स्टन ह्यूज़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भूखे बच्चे,
मैंने यह दुनिया
तुम्हारे लिए नहीं बनाई।

तुम मेरे रेल-रोड में
नहीं लगाते हो पूँजी,
तुम नहीं करते निवेश
मेरे कार्पोरेशन में,
क्या तुमने ख़रीदे शेयर
स्टैण्डर्ड ऑयल के ?

मैंने यह दुनिया बनाई है
अमीरों के लिए
और अमीर हो रहे लोगों के लिए
और हमेशा से अमीर रहते आए लोगों के लिए।

तुम्हारे लिए नहीं,
भूखे बच्चे।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : बालकृष्ण काबरा ’एतेश’