भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भूखे बच्चे से भगवान / लैंग्स्टन ह्यूज़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: लैंग्स्टन ह्यूज़  » संग्रह: आँखें दुनिया की तरफ़ देखती हैं
»  भूखे बच्चे से भगवान

भूखे बच्चे!
तुम्हारे लिए नहीं बनाई है
मैंने यह धरती
तुमने तो ख़रीदा ही नहीं है
मेरी रेल कम्पनी का स्टॉक
मेरे कॉरपोरेशन में
कोई निवेश भी नहीं किया है
स्टैंडर्ड ऑयल में
कोई शेयर भी तो नहीं है तुम्हारा

इस धरती को मैंने अमीरों के लिए बनाया है
जो होने वाले अमीर हैं
और जो हमेशा से अमीर हैं
उनके लिए
तुम्हारे लिए नहीं
भूखे बच्चे!


मूल अंग्रेज़ी से अनुवाद : राम कृष्ण पाण्डेय