भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

भूखै री दीठ में सूरज / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सिंझ्यां नै तो
देख्यो ई हो आथूण
लाल… लाल

लो
ओ भळै देखो
होळै-होळै हुवै
लाल… लाल… लाल…

जरूरतां रै हाथां
अभावां री छुरी सूं
म्हारै दांईं
ओ सूरज ई लाई
दोनूं बगत हुवै
हलाल !