भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भूमिका / मुइसेर येनिया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं
जब भी
कविता लिखती हूँ,
मेरी आत्मा
नृत्य करती है ।

उस वक़्त
तमाम जगहें,
समय और उम्मीद
मेरे हो जाते हैं ।

यह अस्तित्व का आनन्द है ।

ख़्वाब का दरवाजा
बस, खुलने के
इन्तज़ार में है,
वह जगह
सम्पूर्ण अन्तरात्मा है
ईश्वर की तरह ।