भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भूमिगत रेलमार्ग / बालकृष्ण काबरा 'एतेश' / कार्ल सैण्डबर्ग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

साए की दीवारों के बीच जाते हुए
जहाँ कठोर कानून करते हैं सख़्ती,
भूखी आवाज़ें करती हैं उपहास।

सफ़र करते थके लोग
विनम्रता में झुके कन्धों के साथ,
परिश्रम में मिला देते हैं
अपनी खिलखिलाहटें।

मूल अँग्रेज़ी से अनुवाद : बालकृष्ण काबरा 'एतेश'