भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भेळा हुया माड़ा लोग बाबा / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भेळा हुया माड़ा लोग बाबा
फैलावै नित नुंवा रोग बाबा

बाजी हाथ आवैला आपणै
हारैला कदै तो जोग बाबा

म्हैं अठै बैठा करां अकासिया
बांनै चाइजै नित भोग बाबा

सूरज कैवै- आगै री सुध ल्यो
बीती रात कांई सोग बाबा

चेतन हुसी धूणी कदैई तो
आं आखरां में है ओग बाबा