भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भोभर में / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आभै में
कांवळां दांई तिरै
हवाईजहाज अर हेलीकाप्टर

भोभर में ओटयोड़ी
बाटी उथळणी भूळ जावै
चूल्है कनै बैठी लुगायां

धमाका…धमाका…धमाका…

अबै बाटी उथळयां हुवै कांई
अबै तो
स्सो कीं भोभर में ई है !