भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भोर छोरी खातर / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अगूण में सिंदूरी उजास :
जाणै जवान हुवती छोरी रै
उणियारै आवती ओप

सिंदूरी सूरज :
जाणै अबार अबार घड़वायोड़ो
सोनै रो नुंवो टीको
भोर छोरी हुसी स्याणी जद
काम आसी

आ चींतै
कुदरत-मा !