भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भोर सूं आथण तांई खटै तावड़ो / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भोर सूं आथण तांई खटै तावड़ो
तावड़ै सूं ई देखो कटै तावड़ो

सूखै गळो बळै पग पण सोच ना कर
छीयां ई आसी है जठै तावड़ो

असाढ बीनणी रि मदछकियो जोबन
छिनाळ छीयां नूंतै पण नटै तावड़ो

अगलै धोरै पाणी री आस दीसै
बगता चालो भायलां घतै तावड़ो

करड़ी छाती पग सांभ टुर्‌यां आगै
आ पूछां आपस में- कठै तावड़ो