भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भोर सूं आथण तांई / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भोर सूं आथण तांई
चाल्यां जा तूं थाकण तांई

थारी रोसणी थारै मांय
करसी झाड़ा-जागण कांई

दो मीठा बोल ई कौल है
जीणो मरणो साथण तांई

आ रंग दिखावैला जरूर
ठहर जा पीड़ पाकण तांई

आ कलम काळी क्यूं करै तूं
कूड़ा वाचा भाखण तांई