भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

भोर सूं आथण तांई / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भोर सूं आथण तांई
चाल्यां जा तूं थाकण तांई

थारी रोसणी थारै मांय
करसी झाड़ा-जागण कांई

दो मीठा बोल ई कौल है
जीणो मरणो साथण तांई

आ रंग दिखावैला जरूर
ठहर जा पीड़ पाकण तांई

आ कलम काळी क्यूं करै तूं
कूड़ा वाचा भाखण तांई