भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भौतिकी / पाब्लो नेरूदा / मंगलेश डबराल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

प्रेम वनस्पति-रस की तरह
हमारे रक्त के पेड़ को सराबोर कर देता है
और हमारे चरम भौतिक आनन्द के बीज से
अर्क की तरह खींचता है अपनी विलक्षण गन्ध
हमारे भीतर चला आता है पूरा समुद्र
और भूख से व्याकुल रात
आत्मा अपनी लीक से बाहर जाती हुई, और
दो घण्टियाँ तुम्हारे भीतर हड्डियों में बजती हुईं
तुम्हारी देह का भार, रिक्त होता हुआ दूसरा समय ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : मंगलेश डबराल