भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मंज़िलों के निशाँ नहीं मिलते / 'क़मर' मुरादाबादी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मंज़िलों के निशाँ नहीं मिलते
तुम अगर नागहाँ नहीं मिलते

आशियाने का रंज कौन करे
चार तिनके कहाँ नहीं मिलते

दास्तानें हज़ार मिलती हैं
साहिब-ए-दास्ताँ नहीं मिलते

यूँ न मिलने के सौ बहाने हैं
मिलने वाले कहाँ नहीं मिलते

इंकिलाब-ए-जहाँ अरे तौबा
हम जहाँ थे वहाँ नहीं मिलते

दोस्तों की कमी नहीं हम-दम
ऐसे दुश्मन कहाँ नहीं मिलते

जिन को मंजिल सलाम करती थी
आज वो कारवाँ नहीं मिलते

शाख-ए-गुल पर जो झूमते थे ‘कमर’
आज वो आशियाँ नहीं मिलते