भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मंत्र-मुग्ध प्रकाश का स्तोत्र / पाब्लो नेरूदा / प्रतिभा उपाध्याय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पेड़ों के प्रकाश के नीचे
गिरा दी गई है ऊँचे आकाश से,
रोशनी
हरे रंग की
शाखाओं की जाली की तरह,
जो चमकती है
हर पत्ते पर,
नीचे बहती स्वच्छ
सफ़ेद रेत की तरह ।

झींगुर ऊँचा उठ रहा है
अपने आरा घर से
खोखलेपन के ऊपर I

विश्व है
पानी का डबाडब भरा
एक गिलास II

मूल स्पेनिश से अनुवाद : प्रतिभा उपाध्याय