भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मईया के कलशा धरायब गे माई / मैथिली लोकगीत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैथिली लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

(कुम्हरा घर से कलशा मंगायेब, मईया के कलशा धरायब गे माई)- 2
किनका चढ़ायेब बेली चमेली, किनका चढ़ायेब गुलाब गे माई
किनका चढ़ायेब ओरहुल फुलबा, मईया के कलशा धरायब गे माई

लक्ष्मी चढ़ायेब बेली चमेली, सरसती चढ़ायेब गुलाब गे माई
दुर्गा चढ़ायेब ओरहुल फुलबा, मईया के कलशा धरायब गे माई

किनका से माँगब अन्न धन सोनमा, किनका से माँगब गेयान गे माई
किनका से माँगब गोदी के बलकवा, मईया के कलशा धरायब गे माई

लक्ष्मी से माँगब अन्न धन सोनमा, सरसती से माँगब गेयान गे माई
दुर्गा से माँगब गोदी के बलकवा, मईया के कलशा धरायब गे माई