भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मकानों के थे या ज़मानों के थे / शीन काफ़ निज़ाम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मकानों के थे या ज़मानों के थे
अजब फ़ासले दर्मियानों के थे

सफ़र यूँ तो सब आसमानों के थे
क़रीने मगर क़ैदखानों के थे

थे वहमों के कुछ-कुछ गुमानों के थे
सभी अपने-अपने ठिकानों के थे

खुली आँख तो सामने कुछ न था
वो मंज़र तो सारे उड़ानों के थे

मुसाफ़िर की नज़रें बुलंदी प' थीं
मगर रास्ते सब ढलानों के थे

उफ़ुक़ ज़ेरे पा' था फ़लक सरनगूं
तिलिस्मात कैसे तकानों के थे

पकड़ना उन्हें कुछ ज़रूरी न था
परिंदे सभी आशियानों के थे

उन्हें ढूँढने तुम कहाँ चल दिए
वो किरदार तो दास्तानों के थे