भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मख़्मूर अपने दिल में, तकब्बुर न लाइए / 'अख्तर' शीरानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मख़्मूर[1] अपने दिल में, तकब्बुर[2] न लाइए,
दुनिया में हर उरूज[3] का एक दिन ज़वाल[4] है ।

मचलता होगा इन्हीं गालों पर शबाब कभी,
उबलती होगी इन्हीं आँखो से शराब कभी ।

मगर अब इनमें वह पहली-सी कोई बात नहीं
जहाँ में आह किसी चीज की सबात[5] नहीं ।

शब्दार्थ
  1. नशे में चूर, उन्मत्त
  2. अभिमान
  3. बुलन्दी
  4. पतन
  5. स्थायित्व