भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मग़ज़ उसका सुबास होता है / वली दक्कनी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मग़ज़ उसका सुबास होता है
गुलबदन के जो पास होता है

आ शिताबी नईं तो जाता हूँ
क्‍या करूँ जी उदास होता है

क्‍यूँकि कपड़े रंगूँ मैं तुज ग़म में
आशिक़ी में लिबास होता है?

तुज जुदाई में नईं अकेला मैं
दर्द-ओ-ग़म आस-पास होता है

ऐ 'वली' दिलरुबा के मिलने कूँ
जी में मेरे हुलास होता है