भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मछुआरा / स्वप्निल श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मछलियों से
मुझे इतना प्रेम था कि
मैं बन गया मछुआरा

मैंने जाल बुनना सीखा
उसे कंधे पर रख कर
नदी–नदी घूमता रहा
तालो पर डाले डेरे
हमेशा रंग–बिरंगी मछलियों के बारे में
सोचता रहा

वे पानी में नहीं स्वप्न में दिखाई
देती थीं
जहाँ भी जाल डाले
मछलियों ने दिया धोखा
वे दूसरों के जाल में फँसती रहीं

मैं कुशल मछेरा नहीं बन पाया
अपने बनाए जाल में
फँस गया