भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मछुवारे / स्वप्निल श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मछुवारों से उनके तालाब छीन
लिए गए है
मछलियाँ कुछ ताक़तवार लोगो के
कब्ज़े में आ गई हैं

मत्स्य-कन्याएँ उनके हरम में
पहुँचा दी गई हैं
मांँसाहारियों की जीभ पर
चढ़ गया है, हिंसक स्वाद

मछुवारों की बस्तियों में छाया
हुआ है सन्नाटा
न उनके पास नावें हैं, न जाल
हिम्मत तो पहले से टूट चुकी है

नदियाँ उदास हैं
हतप्रभ हैं झीलें

चारों तरफ़ फैल गए हैं आखेटक
वे बच्चा- मछलियों पर भी नही
दिखाते दया

समुद्र के पास नदियों की कई
करूण कथाएँ हैं
लेकिन उन्हें भी रौंद रहे हैं
उनके जहाज़।