भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मजदूर किसान अभी भारत के / गिरिवरदास वैष्णव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मजदूर किसान अभी भारत के
एक संगठन नई करिहौ ।
थोरिक दिन मा देखत रहिहौ ,
बिन मौत के तुम मरिहौ ।।
राज करइया राजा हर तो
अब व्यापार करे लागिस ।
सब चीज ला लूटव -तीरव ,
अतके ध्यान धरे लागिस ।।