भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मजदूर / राजेन्द्र देथा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वह था आदमी ही
हिंदूस्तां में आदमी उसके
पैशे से पहचाना जाता
कुछ यूं वह भी
"मजदूर" नाम की
संज्ञा धारण कर गया
कमजोर देह को लिए
वह पूरा दिन कमठे में
काम सलटाता शाम
उसकी मीठी होती
इस कदर कि-
वह घर आते ही घिर जाता
उसके स्वयं के चार जीवों से
जो उसकी सुस्तायी-अलसाई देह
को देते ऊर्जा के बंडल!