भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

मजाक बहुत मंहगा पडता है / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सच
कभी-कभी मजाक बहुत महंगा पड़ता है

चुपचाप लेटी थी नदी
मजाक-ही-मजाक में
ढीठ हवाओं ने छेड़ा उसे

मजाक-ही-मजाक में
बदमाश बादलों ने मारे छींटे

मजाक-ही-मजाक में
उद्दण्ड धाराओं ने उकसाया

आपे से बाहर हुई नदी
बांधे बंध नहीं रही अब

खतरे के किसी भी निशान का
कोई खतरा नहीं इसे

लेकिन
बुरी तरह खतरे में है
मीलों-मीलों हर कोई

सच
कभी-कभी मजाक बहुत महंगा पड़ता है !