भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मत्थे ते चमकन वाल / पंजाबी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

--ये गीत बेटे की शादी में उसे मेहँदी लगाते हुए गाया जाता है--

मत्थे ते चमकन वाल
मेरे बनड़े दे...

लाओ नी लाओ एन्नु शगनां दी मेहँदी
मेहँदी करे हाथ लाल
मेरे बनड़े दे...

पाओ नी पाओ एन्नु शगनां दा गाना
गाने दे रंग ने कमाल
मेरे बनड़े दे...

आईंआं नी आईंआं भेणां मेहँदी ले के
भेणां नु किन्ने ने ख्याल
मेरे बनड़े दे...