भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मत कर गीतां रो मोल भायला / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मत कर गीतां रो मोल भायला
पीड़ रा मोती अमोल भयला

उजास उडीकै हवा बुलावै
बंद पड़ी बारी खोल भयला

हरफ अमूजै होठां में तो सुण
तोड़ मून मीठो बोल भयला

औ प्रीत-धागो बंधै एक बार
गांव-गळी-घर मत डोल भायला

औ आभो देख पछै पंख देख
थारी ताकत तूं तोल भायला