भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मत छुपो / हरीश भादानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मत छुपो कि-
धूप तीखी है, कि-
पांव जलते हैं, कि-
टोकने को शूल चुगते हैं, कि-
खून रिसता है;
मत डरो, कि-
आंधियां हैं तेज,
धुप अंधेरा है
आकाश की छत पर
धरा के आंगने;
मत सुनो, कि-
दूर से डूबी हुई आवाज़ आती है
दिशायें फेर लेने की, कि-
ओछे मोड़ लेने की;
ओट में दुबके हुओं को उत्तर भेज दो, कि-
कच्ची-मौसमी दीवार के
उस पार
जन्मने अकुला रही है
एक अरूणा-ज्योति-
जीवन की नई सम्भावना-
बस, हमारे पहुँचने भर की प्रतीक्षा है !