भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मत समझो बच्ची / गिरीश पंकज

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मत समझो मुझको तुम बच्ची,
करती हूँ मैं बातें अच्छी ।

काम करूँ मैं पढ़ने का,
सोचूँ आगे बढ़ने का ।
झूठ नहीं, मैं बोलूँ सच्ची ।
मत समझो मुझको तुम बच्ची ।

बन्द करो न मुझको घर में,
जाऊँगी मैं दुनिया भर में ।
कौन बोलता, मुझकों कच्ची ।

मत समझो मुझको तुम बच्ची,
करती हूँ मैं बातें अच्छी ।