भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मथुरा के आजकल के कवियों की वन्दना / नाथ कवि

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

परमपरा गुरु सामके, गुरु गुरु-सुत गोविन्द।
श्री बृजेन्द्र, नागर, लला, चच्चन, दीन, मुकुन्द॥
चच्चन, दीन, मुकुन्द राज कवि अंकुर व्यासा।
श्री भगवान, दयाल, शेष, बरसाने आसा॥
भये जो हैं, ओर होंयगे, सब कवियन सिर नाय।
कविता मैं अब करत हों, मो पर होउ सहाय॥