भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मदारे-हर अमले-नेकोबद है नीयत पर / सीमाब अकबराबादी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज



मदारे-हर अमले-नेकोबद है नीयत पर।
अगर हुनाह की नीयत न हो गुनाह नहीं॥

नक़ाब उलट दिया मूसा ने तूर पर उनका।
अगर गुनाह सलीक़े से हो, गुनाह नहीं॥